क्या व्यायाम शराब से होने वाले नुकसानों की भरपाई करता है?

शराब के नुकशान की बात करे तो अगर किसी रात आप बोहत ज्यादा खुश हो और मजे में है और इसके वजह से ज्यादा शराब पी लेते हैं और अगले दिन शारीरिक व्यायाम के जरिये शराब के असर को कम करने की सोच रहे हैं तो भूल जाइए, ये नुक्शानी कभी नहीं भरती क्योंकि एक नया अध्ययन कहता है कि कसरत से खुमारी को अच्छे से दूर किया जा सकता है लेकिन शराब पीने के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई कभी नहीं हो सकती. 

क्या व्यायाम शराब से होने वाले नुकसानों की भरपाई करता है

ब्रिटेन के स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रकाशित एक महत्वपूर्ण शोध के अनुसार अल्कोहल के अपने खतरे बोहत ही हैं जो शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को बोहत ही बड़े खराब तरीके से नुकसान पहुंचाते हैं. इनसे कैंसर की संभावना पूरी तरह बढ़ जाती है और ज्यादा कसरत शराब के खराब प्रभाव को कम नहीं कर सकती. जन स्वास्थ्य मंत्री गिलियन मेरान ने कहा, "इस बात में कोई थोडा सा भी संदेह नहीं है कि अल्कोहल या शराब में आपकी अपेक्षा से ज्यादा कैलोरी होती हैं. इसलिए जब आप अपने बढ़ते वजन को और शरीर में बढ़ते फेट को देखते हैं तो आपके दिमाग में फिटनेस योजना के बारे में ख्याल जरूर आता है."

उन्होंने कहा, "लेकिन नियमित शराब पीने के चलते हुए नुकसान से धीरे-धीरे शरीर में असर होता है और नुकशान होता है जो काफी देर में पता चलता है." स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. कैरल कूपर ने कहा, "स्वस्थ रहने के लिए और लम्बे समय तक अच्छी सेहत के लिए नियमित व्यायाम बोहत ही महत्वपूर्ण है इसलिए एक तरफ तो यह इस बात को बढ़ावा दे रहा है कि कई सिर फिरे पियक्कड़ मानते हैं कि उनकी शराब पीने की आदत अच्छी नहीं है फिर भी चालू रखना चाहते है और दूसरी तरफ वे व्यायाम के माध्यम से शराब पीने के नुकसान को बेअसर करना चाहते हैं."

क्या व्यायाम करने से शराब पीने की इच्छा कम हो जाती है?

क्या व्यायाम करने से शराब पीने की इच्छा कम हो जाती है

धूम्रपान करना और उसमे भी खास कर शराब पीना विशेषकर पश्चिमी संस्कृति में, सामाजिक रूप से स्वीकार्य व्यवहार माना जाता है. विश्वविद्यालय के छात्रों में अल्कोहल या शराब का अत्यधिक सेवन एक बोहत ही गंभीर समस्या बन चुकी है. एक अध्ययन में पाया गया कि ब्रिटेन के 45-69 प्रतिशत छात्र सप्ताह में कम से कम एक बार तो शराब पीने का आयोजन करते ही हैं। एक अनुसंधान के मुजब जो छात्र नियमित व्यायाम करते हैं उनमें अल्कोहल का यानि शराब का सेवन करने की इच्छा कम होती है और वे ज्यादा सकारात्मक विचारो के साथ अपने आपको पॉजिटिव महसूस करते हैं.

Post a Comment

0 Comments